स्वतंत्रता दिवस पर निबंध हिंदी में 15 अगस्त का भाषण

15 अगस्त का भाषण हिंदी में (स्वतंत्रता दिवस पर निबंध)

भारत की आजादी का दिन 15 अगस्त 1947

हमारा देश जहां आज हम आजादी के साथ कहीं भी जा सकते हैं, कोई भी काम कर सकते हैं। यह पहले ऐसी शक्तियों के अधीन था। जो हमारे देश और लोगों को बुरी तरह से आहत कर रहा था। जो देश पहले सोने की चिड़िया कहलाता था, इन लोगों के अधिकार में इन्होंने यहाॅं की सारी धन-सम्पदा अपने कब्ज़े में कर दी, और भारत के लोगों को अपना गुलाम बन कर उनसे काम करवाया।

15 अगस्त को हिंदी में भाषण

ये गुलामी का जीवन हमारे देशभक्तों को बहुत ज्यादा तकलीफ देता था। इसी कारण उन्होंने मिल कर देश की आज़ादी के लिए अपनी कुर्बानी लगा दी ताकि ये देश स्वतन्त्र हो सके। यहा के बच्चें और लोग आजादी से रह सके। इन शहीदों और देशभक्तों को याद के लिए और स्वतन्त्रता दिवस के रूप में ये देश हमारे भारत में हर वर्ष मनाया जाता है।

आज के अधिकतर युवाओं को हमारे देश के स्वतन्त्रता दिवस के महत्व के बारे में जानकारियाॅं नहीं है। कुछ लोगों यही सोचते है कि हमारे पूर्वज पहले भी ऐसे ही रहते होंगे, लेकिन हमारे पूर्वजों ने कई तरह की तकलीफे उठाई फिर कई जाकर ये देश आज़ाद हुआ।

हमारे देश के कुछ बच्चों को आज़ादी दिवस का महत्व मालूम नहीं होने के कारण, आज देश में वेलंटाइन डे जो अंग्ररेजों की देन है, ये स्वतंत्रता दिवस से भी अधिक धुम-धाम से मनाया जा रहा है। और कुछएक बच्चों को स्वतन्त्रता दिवस का ज्ञान है जो कि 15 अगस्त पर बनाई फिल्म से है।

15 अगस्त का दिन हमारे देश के लिए अमूल्य दिन है, और ये हमारे देश की कई कुर्बानियों और इतिहास को अपने आप में समेटा हुआ दिन है। ये दिन प्रत्येक वर्ष इसलिए मनाया जाता है ताकि हमें हर वर्ष ये बात ध्यान रहे, कि जो स्वतन्त्रता में आज हम जीवन-यापन कर रहे हैं उसके लिए हमारे पूर्वजों ने बलिदान दिया था।

ये दिन हमको एक-जूट होकर देश की रक्षा के लिए हर समय तैयार रहने के लिए प्रेरित करता है।